नवरात्रों में इन चीज़ों का जरूर करें सेवन, होता है शुभ

चैत्र और अश्विनी मां के चंद्र पक्ष में नौ दिन नवरात्रि के नाम से विख्यात हैं. नवरात्रि हिंदुओं के विशेष पर्व में से एक माना जाता है जिसे पूरे भारतवर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है. इन दिनों मां भगवती की पूजा की जाती है और इन्हें प्रसन्न करने के लिए उपवास भी रखे जाते हैं. साथ ही कुछ खाने की ऐसी चीजें बनाई जाती है जिनका की सेवन बहुत शुभ माना जाता है. आइए आपको बताते हैं उन चीजों के बारे में जो नवरात्रि में मां भगवती को भोग लगाने और खाने के लिए शुभ माने जाता है.

  • नारियल– हिंदू धर्म में नारियल को शुभ माना जाता है और हर काम की शुरुआत से पहले घर की पूजा हो या कोई वाहन खरीदा हो. नारियल के बिना पूजा नहीं होती है. वैष्णो माता हो या फिर केदारनाथ हर जगह नारियल प्रसाद के रूप में चढ़ता है. आप नवरात्रि में कच्चा नारियल भी खा सकते हैं यह पौष्टिक होता है.
  • मिश्री– देवी वैष्णो माता का भोग मिश्री का लगाया जाता है. इसमें मखाने और बादाम को साथ में मिला दिया जाता है. आपको बता दें कि मिश्री सिर्फ टेस्ट में ही मीठी नहीं होती बल्कि इससे कई सेहत से जुड़े भी फायदे होते हैं.
  • अखरोट– नवरात्रों में अखरोट खाने को बेहद ही शुभ माना जाता है. वैष्णो देवी के दर्शन करके आने वाला हर भक्त मां के प्रसाद के रूप में अखरोट लेकर जरूर आता है. उपवास में इसका उपयोग सेहत के लिए अच्छा होता है.
  • मखाने– नवरात्रों के दिनों में अनन नहीं खाया जाता है. फलहार  खाना ही नवरात्रों के दिन में हेल्दी माना जाता है. नवरात्रों में मखाने की खीर का भोग मां भगवती को लगाया जाता है. वैसे तो मखाने खाने के कई हेल्थ से जुड़े फायदे होते हैं. इसके साथ ही मखाने खाने को शुभ माना गया है.
  • बादाम– बादाम में प्रोटीन, वसा, विटामिन और मिनरल पर्याप्त मात्रा में होते हैं. इसलिए ये हेल्थ के लिए बहुत अच्छा होता है. नवरात्रों में व्रत के दौरान ब्रेकफास्ट के समय पर बादाम खाने से पूरा दिन एनर्जी बनी रहती है.

ये भी पढ़ें-

इन चीजों से स्क्रब करने पर पैर रहेंगे सुंदर और सॉफ्ट

चेहरे पर निखार लाने के लिए लगाएं टमाटर और खीरे का रस, जानें इसके फायदे

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

नीचे देखें स्वास्थ्य उपकरण-
अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की गणना करें

आयु कैलकुलेटर के माध्यम से आयु की गणना करें

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: