यूक्रेन संकट: इस बिल्ली ने जमा किया ₹7 लाख से ज्यादा का चंदा; संकट में दोस्तों के लिए सभी!

स्टीफन सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर लोकप्रिय हैं

यूक्रेन संकट: इस बिल्ली ने जमा किया ₹7 लाख से ज्यादा का चंदा; संकट में दोस्तों के लिए सभी!,

यूक्रेन संकट ukraine-crisis

रूस और यूक्रेन संकट (रूस यूक्रेन संघर्ष) शुरू करने के लिए एक लंबा समय है। इस युद्ध से आम जनता के साथ-साथ गूंगे जानवर भी पीड़ित हैं। आपने सोशल नेटवर्क पर इस बारे में कई खबरें पढ़ी होंगी। बहुत से लोग अपने पालतू जानवरों को छोड़ने से हिचकते हैं। साथ ही पशु फार्मों की देखभाल करने वाले अपने पशुओं के साथ रह जाते हैं। लेकिन युद्ध के कारण इनका संचालन कठिन होता है। इस पृष्ठभूमि में, दुनिया भर में पशु आश्रयों से दान एकत्र किया जा रहा है। इसके जरिए लोग मूक जानवरों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। इस बीच एक नए तरीके से बिल्ली के नाम पर चंदा इकट्ठा किया गया है। खास बात यह है कि जुटाई गई रकम 7 लाख रुपये से ज्यादा है। उस बिल्ली के साथ क्या है? संचित धन का उपयोग किस लिए किया जाता है? पेश है रोचक जानकारी।

सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वालों ने शराब के गिलास के पास बैठी एक बिल्ली की तस्वीर देखी होगी। स्टीफन वह बिल्ली है जो पॉपकॉर्न के बगल में बैठती है या एक गिलास वाइन के बगल में बैठती है। इस नाम के तहत अलग-अलग खाते हैं, जैसे Instagram और Twitter।

स्टीफन का एक वीडियो:

आपको हैरानी होगी अगर इंस्टाग्राम पर इस बिल्ली को फॉलो करने वालों की संख्या 12 लाख से ज्यादा है। ‘स्टीफन’ ने यूक्रेन में फंसे अपने साथी जानवरों की मदद के लिए चंदा जुटाया है। दुनिया भर के लोगों ने मदद की है।

स्टीपेन द्वारा शुरू किए गए दान ने कुल 10,000 डॉलर जुटाए हैं। दूसरे शब्दों में, यह 7.5 लाख रुपये से अधिक है। दान पिछले सप्ताह से शुरू हो गया है और ‘पेपाल’ मीडिया के माध्यम से वित्त पोषित किया गया है।

संचित दान का क्या उपयोग है?

स्टीपेन द्वारा जुटाई गई धनराशि उन पालतू जानवरों को दी जाएगी जिन्हें इसकी आवश्यकता है। यूक्रेन में पशु देखभाल संगठनों और चिड़ियाघरों के लिए भी धन दिया जाएगा। भोजन सहित आवश्यक वस्तुओं के संकट की स्थिति में, यूक्रेन में, दुनिया के प्रमुख जानवर इस प्रक्रिया में शामिल हुए हैं। सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर इस काम की काफी तारीफ हो रही है।

जुटाई गई राशि पर स्टीफन की पोस्ट:

यह याद किया जा सकता है कि भारत सरकार ने यूक्रेन से लौटने वाले नागरिकों को घरेलू पशुओं को वापस लाने की अनुमति दी थी।

यह भी पढ़ें:

हाइवे पर टोल किस आधार पर लगाया जाता है? ये है आपकी जिज्ञासा का जवाब

मैदान के लोग किस रंग का हेलमेट पहनते हैं? क्या भारत में यह अनिवार्य है? पेश है रोचक जानकारी

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: