Astrology : कुंडली का ये घर बताएगा, प्यार में मिलेगी सफलता या असफलता

Astrology : कुंडली का ये घर बताएगा, प्यार में मिलेगी सफलता या असफलता,

ज्योतिष, राशि चिन्ह: लव रिलेशन में सफलता मिलेगी या नहीं. ये सवाल यदि आपके मन में हैं तो इसका उत्तर आप स्वयं भी तलाश सकते हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली का पंचम भाव प्रेम संबंधों के बारे में बताता है. वैलेंटाइन वीक आरंभ हो चुका है. ये सप्ताह प्रेम को समर्पित है. लव लाइफ कैसी रहेगी, प्रेम संबंधों में सफलता मिलेगी या नहीं इन सभी प्रश्नों का उत्तर कुंडली के पंचम भाव को देखकर ही दिया जाता है.

जन्म कुंडली का 5वां भाव (kundli 5th house)
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में 12 भाव होते हैं. कुडंली का प्रत्येक भाव अपना एक विशिष्ट स्थान रखता है. यहां बात कर रहे हैं पंचम भाव की तो कुंडली के इस भाव से प्रेम, यानि लव लाइफ और लव रिलेशन के बारे में पता लगाया जाता है. इस भाव को संतान और शिक्षा का भी कारक माना गया है.

पंचम भाव पर पाप ग्रह की दृष्टि
पंचम भाव पर जब पाप ग्रह की दृष्टि पड़ती है इसके फलों में कमी आ जाती है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसाार राहु और केतु को पाप ग्रह की श्रेणी में रखा गया है. माना जाता है कि जब पंचम भाव पर राहु या केतु की दृष्टि पड़ती है तो लव लाइफ में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. ऐसे लोगों को प्रेम में सफलता पाने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है. कभी- कभी असफलता का सामना करना पड़ता है.

April 2022 : शनि की राशि कुंभ में युद्ध और रक्त के कारक मंगल का गोचर, इन राशि वालों को रखना होगा अपने क्रोध पर काबू

पंचम भाव पर शनि की दृष्टि (shani in 5th house in kundli)
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि, मंगल और सूर्य को क्रूर ग्रह की श्रेणी में रखा गया है. जब इन ग्रहों की दृष्टि कुंडली के पंचम भाव पड़ती है तो व्यक्ति को प्रेम संबंधों में बहुत अड़चनों का सामना करना पड़ता है. इन ग्रहों के कारण ब्रेकअप जैसी समस्या का भी सामना करना पड़ता है. ये ग्रह लव मैरिज में भी बाधा देने का कार्य करते हैं. इन ग्रहों को इन मंत्रों के जाप से शुभ बनाया जा सकता है और आने वाली बाधाओं को दूर किया जा सकता है. इन मंत्रों का एक माला नित्य जाप करना शुभ बताया गया है.

ज्योतिषीय उपाय (Remedy)
राहु मंत्र (राहु मंत्र) – भ्रां भृं भ्रां स: रहवे नम:
केतु मंत्र (ketu mantra)- ॐ स्त्रां स्त्रीं स्त्रौं स: केतवे नम:
शनि मंत्र (shani mantra)- ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः
मंगल ग्रह का मंत्र (mangal mantra)- ॐ भौम भौमाय नमः
सूर्य मंत्र (surya mantra)- ॐ सूर्याय नम:

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Chaitra Amavasya 2022 : राहु की राशि बदलने से पहले चैत्र अमावस्या पर कर लें ये उपाय, फिर देखें चमत्कार

 

Source link

Also read: 12 Simple Ways To Detox Every Day

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: