Navratri 2022 : शनि, राहु-केतु कर रहे हैं परेशान, दे रहे हैं चोट पे चोट तो दुर्गा महा अष्टमी पर

नवरात्रि 2022, ज्योतिष: पंचांग के अनुसार 9 अप्रैल 2022, शनिवार को चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी की तिथि है. इस दिन मां दुर्गा के आठवें स्वरूप मां महागौरी की पूजा की जाती है. नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा करने से नव ग्रह की भी शांति होती है. दुर्गा अष्टमी पर कुछ उपायों को अपना कर ग्रहों की अशुभता को दूर किया जा सकता है. इस दिन राशि के अनुसार इन आसान उपायों को कर सकते हैं-

  1. मेष राशि (Aries)- दुर्गा अष्टमी पर मां दुर्गा को सिंदूर अर्पित करें. इस  दिन क्रोध, अहंकार और लोभ आदि से बचने का प्रयास करें और छोटी बच्चियों को उपहार आदि प्रदान करें. ऐसा करने से मां दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होगा, तथा ग्रहों की अशुभता से जीवन में आने वाली परेशानियां दूर होंगी.
  2. वृषभ राशि (Taurus)- राहु का गोचर आपकी राशि में हो रहा है. राहु को भ्रम का कारक माना गया है. राहु की अशुभता को दूर करने के लिए दुर्गा महा अष्टमी पर अच्छा संयोग बन रहा है. इस दिन विवाहित महिलाओं को श्रद्धा पूर्वक भोजन कराएं और श्रृंगार आदि से जुड़ी चीजों को उपहार में दें.
  3. मिथुन राशि (Gemini)- इस दिन विधि पूर्वक मां दुर्गा की पूजा करें, बीज मंत्रों का जाप करें. इस दिन व्रत का भी विशेष पुण्य प्राप्त होता है.
  4. कर्क – दुर्गा अष्टमी का पर्व मातृ शक्ति को भी समर्पित है. छोटी कन्याओं को दुर्गा का स्वरूप माना गया है. इस दिन छोटी कन्याओं की पूजा करें और उन्हें प्रसन्न रखने का प्रयास करें. इससे शुक्र और बुध ग्रह की अशुभता दूर होती है.
  5. सिंह राशि (Leo)- मां दुर्गा को लाल पुष्प अधिक प्रिय हैं. दुर्गा अष्टमी पर लाल पुष्प चढ़ाने से मंगल ग्रह की अशुभता को दूर करने में मदद मिलती है.
  6. कन्या राशि (Virgo)- अष्टमी की तिथि पर आपकी राशि में तीन ग्रहों की युति बनी हुई है. बुध, मंगल और सूर्य आपकी ही राशि में गोचर कर रहे हैं. इस दिन मां दुर्गा की प्रिय चीजों का भोग लगाएं और श्रृंगार का सामान भेंट. ऐसा करने से ग्रहों की अशुभता दूर होती है.
  7. तुला राशि (Libra)- दुर्गा अष्टमी पर मां दुर्गा का आशीर्वाद करने के साथ साथ भगवान गणेश जी की भी कृपा प्राप्त करने का प्रयास करें. इस दिन बुधवार है. बुधवार का दिन भगवान गणेश को समर्पित है. इस दिन गणेश जी की पूजा से भी मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं. इससे भी ग्रहों की शुभता में वृद्धि होती है.
  8. वृश्चिक राशि (Scorpio)- आपकी राशि में दो ग्रहों की युति बनी हुई है. पाप ग्रह केतु के साथ भोग विलास के कारक ग्रह शुक्र भी गोचर कर रहे हैं. इस दिन इन ग्रहों की अशुभता को दूर करने के लिए दुर्गा सप्तशती का पाठ करें.
  9. धनु राशि (Sagittarius)- चंद्रमा का गोचर आपकी राशि में हो रहा है. इस दिन वृद्ध महिलाओं की सेवा करें, उन्हें उपहार और भोजन प्रदान करें. ऐसा करने से चंद्रमा आदि ग्रहों का दोष दूर होता है.
  10. मकर राशि (Capricorn)- शनि और गुरु आपकी राशि में विराजमान हैं. शनि न्याय और गुरु को ज्ञान का कारक माना गया है. दुर्गा अष्टमी पर मां दुर्गा की पूजा करने और घर में हवन करें. ऐसा करने से नवग्रहों की शांति होती है.
  11. कुंभ राशि (Aquarius)- दुर्गा अष्टमी पर मां दुर्गा की विधि पूर्वक पूजा करें. महिलाओं को श्रृंगार का समान भेंट करें. इस दिन छोटी बच्चियों को भी उपहार दे सकते हैं.
  12. मीन राशि (Pisces)- दुर्गा अष्टमी पर मां दुर्गा का व्रत रखें और हवन आदि से मां को प्रसन्न करें. इस दिन पूजा में लाल कनेर पुष्प चढ़ाना चाहिए. इससे ग्रहों की अशुता दूर होती है.

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

April 2022 Calendar : आज से आने वाले सात दिन हैं विशेष ये महत्वपूर्ण ग्रह बदल रहे हैं राशि

Navratri 2022: नवरात्रि में कन्या पूजन के साथ क्यों की जाती है ‘बटुक’ पूजा, जानें पूजा विधि और महत्व

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: