Navratri Maha Ashtami 2022: कल है नवरात्रि की अष्टमी, की जाएगी ‘महागौरी’ की पूजा, जान लें शुभ

Navratri 2022 , Navratri Ashtami 2022 : चैत्र नवरात्रि को हिंदू धर्म में विशेष माना गया है. नवरात्रि में मां दुर्गा की विशेष उपासना का विधान है. मान्यता है कि नवरात्रि में मां की पूजा का जीवन में विशेष फल प्राप्त होता है. कल यानि 9 अप्रैल को नवरात्रि का आठवां दिन है.

महागौरी की पूजा (mahagauri mata)
आज पंचांग के अनुसार चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि है. इसे महा अष्टमी भी कहा जाता है. नवरात्र के आठवें दिन मां के आठवें स्वरूप महागौरी की पूजा की जाती है. इस  दिन मां दुर्गा के इस रूप की पूजा विशेष कल्याणकारी मानी जाती है. नवरात्रि में अष्टमी और नवमी तिथि का खास महत्व होता है. इन दोनों दिन लोग कन्या पूजन भी करते हैं. इस दिन माता महागौरी की पूजा की जाती है. जानते हैं मां की पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि.

Mercury Transit 2022 : व्यापारियों के रक्षक ‘बुध’ आ चुके हैं मंगल की राशि ‘मेष’ में, जानें इन राशियों का भविष्यफल

नवरात्रि आठवां दिन शुभ-मुहूर्त (Chaitra Navratri Ashtami 2022 Subh Muhurat and Date)
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार 9 अप्रैल 2022, शनिवार को चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि पड़ रही है. अष्टमी तिथि शुक्रवार की रात 11 बजकर 6 मिनट से आरंभ होगी. जो 9 अप्रैल पूरी रात तक रहेगी. दुर्गा अष्टमी का व्रत 9 अप्रैल को रखा जाएगा.

मां माहागौरी की पूजा विधि (mahagauri navratri)
अष्टमी के दिन स्नान कर साफ़ कपड़े पहनें. उसके बाद दुर्गा अष्टमी व्रत करने और मां म​हागौरी की पूजा करने का संकल्प लें. इसके बाद पूजा स्थान पर मां महागौरी या दुर्गा जी की मूर्ति या तस्वीर स्थापित कर दें. यदि आपने कलश स्थापना किया है, तो वहीं बैठकर पूजा करें. मां महागौरी को सफेद और पीले फूल अर्पित करना शुभ माना जाता है. नारियल का भोग लगाएं. कहा जाता है कि ऐसा करने से देवी महागौरी प्रसन्न होती हैं. नारियल का भोग लगाने से संतान संबंधी समस्या दूर होती हैं. अंत में मां महागौरी की आरती करें.

Navratri 2022: नवरात्रि में कन्या पूजन के साथ क्यों की जाती है ‘बटुक’ पूजा, जानें पूजा विधि और महत्व

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: